Gazal Dhaliwal Biography in Hindi | ग़ज़ल धालीवाल जीवन परिचय

ग़ज़ल धालीवाल

ग़ज़ल धालीवाल

ग़ज़ल धालीवाल बॉलीवुड फिल्म लेखक और अभिनेत्री हैं। उन्होंने एक लेखक के रूप में फिल्म “एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा” से फिल्म करियर की शुरुआत की। वह एक ट्रांसजेंडर महिला भी हैं, क्योंकि उन्होंने पुरुष लिंग से महिला में बदल दिया है।

जीवन परिचय (Biography)

ग़ज़ल धालीवाल का जन्म पटियाला, पंजाब, भारत में हुआ था। उन्हें प्यार से सभी गोनू कहकर पुकारते थे। पांच वर्ष की उम्र में, उन्होंने स्वयं को एक महिला के रूप में अभिव्यक्त किया था, क्योंकि वह अक्सर गुड़िया के साथ खेलना पसंद करती थी और अपनी माँ के कपड़े पहनती थी। लेकिन, उन्होंने इस बारे में अपने माता-पिता को नहीं बताया। चौदह वर्ष की उम्र में, उन्होंने अपने पिता को इस समस्या के बारे में बताया, लेकिन उस समय वह कुछ समझ नहीं पा रही थी। उसके बाद ग़ज़ल डिप्रेशन में घर छोड़कर भाग गई। जिसके बाद, उनके माता-पिता ने उनका साथ दिया। वर्ष 2007 में, उन्होंने एक सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी (SRS) कराई, जिसके बाद उनका लिंग पूरी तरह से बदल गया। पच्चीस वर्ष की उम्र तक लिंग-परिवर्तन से पहले, वह गुनराज सिंह धालीवाल के नाम से जानी जाती थी।

ग़ज़ल धालीवाल की बचपन की फोटो
ग़ज़ल धालीवाल की बचपन की फोटो

परिवार (Family)

उनका जन्म एक सिख परिवार में पिता भजन प्रताप सिंह धालीवाल और माता सुकर्णी धालीवाल के घर हुआ था।

ग़ज़ल धालीवाल अपने माता पिता के साथ
ग़ज़ल धालीवाल अपने माता पिता के साथ

करियर (Career)

ग़ज़ल धालीवाल ने प्राथमिक शिक्षा बूढ़ा दल पब्लिक स्कूल, पटियाला से प्राप्त की। उन्होंने मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जयपुर से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। वर्ष 2004 में, उन्होंने मैसूर, कर्नाटक में इन्फोसिस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में काम करना शुरू किया। हालांकि, ग़ज़ल ने वर्ष 2005 में बॉलीवुड के क्षेत्र में अपने करियर को बढ़ाने के लिए नौकरी को बीच में ही छोड़ दिया। इसके बाद उन्होंने जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस (XIC), मुंबई से फिल्म प्रोडक्शन में एक साल का कोर्स किया। उसके बाद, उन्हें एक एनीमेशन फिल्म पटकथा पर फिल्म निर्देशक गोविंद निहलानी के साथ कार्य करने का मौका मिला।

वर्ष 2014 में, ग़ज़ल धालीवाल “सत्यमेव जयते” टीवी सीरियल में आईं, जहां उन्होंने वैकल्पिक यौन संबंधों को स्वीकार किया, जिसकी मेजबानी आमिर खान करते थे। वर्ष 2015 में, उन्होंने लघु फिल्म “अगली बार” से अपने अभिनय करियर की शुरुआत की। एक अभिनेत्री होने के अलावा, वह एक लेखिका भी हैं। जिसके चलते उन्होंने वर्ष 2016 में फिल्म वजीर से अपने लेखन करियर की शुरुआत की। उन्होंने इस फिल्म के संवाद भी लिखे हैं। उन्होंने कई अन्य फ़िल्मों जैसे- लिपस्टिक अंडर माय बुरखा (2016) और क़रीब क़रीब सिंगल (2017) के लिए भी संवाद लिखे हैं।

ग़ज़ल धालीवाल

वर्ष 2018 में, ग़ज़ल धालीवाल ने लघु फिल्म “ए मॉनसून डेट” की कहानी लिखी। उन्होंने अनिल कपूर, जूही चावला, सोनम कपूर, और राजकमार राव अभिनीत फिल्म “एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा” (2019) की कहानी, संवाद और पटकथा लिखी।

रोचक तथ्य (Interesting Facts)

  • उन्हें लिखना और संगीत सुनना बहुत पसंद है।
  • उन्होंने भारतीय टीवी शो के अलावा विदेशी टीवी शो में भी प्रतिभाग लिया है। जैसे कि – सत्यमेव जयते और सिक्स फ़ीट अंडर, इत्यादि।
  • उन्हें क्रिकेट और बैडमिंटन देखना बहुत पसंद है।
  • उन्हें कुत्तों से बहुत प्रेम है।

Related posts

Leave a Comment