Shakuntala Devi Biography in Hindi | शकुन्तला देवी जीवन परिचय

शकुंतला देवी

शकुंतला देवी

शकुन्तला देवी एक भारतीय लेखक और गणित की जीनियस थे। जिन्हें लोकप्रिय रूप से “मानव कंप्यूटर” के नाम से भी जाना जाता था। वह जटिल गणितीय गणना करने के लिए काफी प्रसिद्ध हैं। उनका जन्म एक सर्कस कलाकार की बेटी के रूप में दक्षिणी भारत में हुआ था, जिसके चलते उन्होंने बहुत ही कम उम्र में अपनी कुशलताओं का प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था। उनके पिता उन्हें एक सड़क शो पर ले गए, जहां शकुन्तला ने गणना में अपनी क्षमता प्रदर्शन किया था। इतनी कम उम्र में गणितीय शक्ति के बारे में देख सभी आश्चर्यचकित हुए। उन्होंने अपने परिवार की वित्तीय स्थिति को देखकर कोई भी औपचारिक शिक्षा नहीं प्राप्त की, लेकिन फिर भी वह गणित के संकाय में काफी होनहार बनीं।

शकुन्तला देवी ह्यूमन कंप्यूटर
शकुन्तला देवी ह्यूमन कंप्यूटर

किसी भी तकनीकी उपकरण की सहायता के बिना ही उन्होंने सबसे जटिल गणितीय गणना करने की असाधारण क्षमता से काफी प्रसिद्धि प्राप्त की और वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी लोकप्रिय हुईं। कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले में मनोविज्ञान के प्रोफेसर आर्थर जेन्सेन ने उनकी क्षमताओं का परीक्षण और अध्ययन किया। जिसके चलते अकादमी जर्नल ‘इंटेलिजेंस’ में उनके ट्रिक्स को प्रकाशित किया गया। उनकी असाधारण क्षमताओं ने उनका नाम ‘द गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ के 1982 संस्करण में भी शामिल किया गया। इसके अलावा, वह बच्चों की किताबों के साथ-साथ गणित, पहेली और ज्योतिष पर काम करने के लिए भी प्रसिद्ध थीं।

जीवन परिचय (Biography)

  • वास्तविक नाम (Real Name) : शकुन्तला देवी
  • उपनाम (Nickname) : मानव कंप्यूटर, मेन्टल कैलकुलेटर
  • व्यवसाय (Profession) : सामाजिक कार्यकर्ता, लेखक
  • जन्म तिथि (Date of Birth) : 4 नवम्बर 1929
  • जन्मस्थान (Birth Place) : बैंगलोर, मैसूर राज्य, ब्रिटिश भारत
  • मृत्यु तिथि (Death Date) : 21 अप्रैल 2013
  • मृत्यु स्थल (Death Place) : बेंगलुरु, कर्नाटक, भारत
  • मृत्यु कारण (Death Cause) : किडनी फेल होने से
  • आयु (Age) : 83 वर्ष
  • राष्ट्रीयता (Nationality) : भारतीय
  • गृहनगर (Hometown) : बेंगलुरु, कर्नाटक, भारत
  • स्कूल (School) : ज्ञात नहीं
  • कॉलेज (College) : ज्ञात नहीं
  • शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification) : ज्ञात नहीं
  • धर्म (Religion) : हिन्दू
  • जाति (Caste) : कन्नड़ ब्राह्मण
  • वैवाहिक स्थिति (Marital Status) : तलाकशुदा

परिवार (Family)

  • पिता (Father) : नाम ज्ञात नहीं (सर्कस कलाकार)
  • माता (Mother) : नाम ज्ञात नहीं
  • भाई (Brother) : ज्ञात नहीं
  • बहन (Sister) : ज्ञात नहीं
  • पति (Husband) : परितोष बैनर्जी (भारतीय प्रशासनिक सेवा)
  • बच्चे (Children) : बेटा – कोई नहीं, बेटी – अनुपमा बैनर्जी

रोचक तथ्य (Intersting Fact)

  • शकुंतला देवी का जन्म 4 नवंबर 1929 को भारत के कन्नड़ ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता सर्कस में जादूगर थे, जिन्होंने अपने पूर्वजों के कार्य को पुजारी या ज्योतिषी बनने के बजाए, एक सर्कस कलाकर बनने का फैसला किया।
  • उनके परिवार की आर्थिक स्थिति काफी कमजोर थी, क्योंकि उनके पिता अधिक कमाने में असमर्थ थे। जिसके चलते उन्होंने शिक्षा प्राप्त नहीं करने का निर्णय किया।
  • सूत्रों के मुताबिक, जब वह तीन साल की थी तब उन्होंने अपने पिता के साथ कार्ड गेम खेलना शुरू कर दिया था। तभी उनके पिता को एहसास हुआ कि उनकी बेटी में एक अध्भुत प्रतिभा है। उन्होंने देखा कि शकुन्तला सभी कार्ड नंबरों और उनके अनुक्रम को याद कर रही थी, क्योंकि खेल शुरुआती राउंड में प्रगति कर रहा था और इसी ट्रिक से गेम जीतने में सहयोग किया।
  • वर्ष 1944 में, शकुन्तला देवी अपने पिता के साथ लंदन चली गई थीं।
  • वर्ष 1950 में, उन्होंने यूरोप का दौरा करते हुए, अपनी अंकगणितीय प्रतिभा का प्रदर्शन किया। उन्होंने दुनिया भर में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।
  • वर्ष 1977 में, दक्षिणी मेथोडिस्ट विश्वविद्यालय में उन्होंने 50 सेकंड में 201 अंकों की संख्या का 23 वर्गमूल निकाल दिया था।
  • वर्ष 1955 में, वह एक बीबीसी शो में गईं, जहां मेजबान लेस्ली मिशेल ने उन्हें हल करने के लिए एक जटिल गणित की संख्या दी। जिसे उन्होंने सेकंड में हल कर दिया, लेकिन मेजबान ने उसे बताया कि उसका जवाब गलत था, क्योंकि उसका जवाब मेजबान और उनकी टीम की गणना से अलग था।
  • उसके बाद मिशेल ने दोबारा सवाल की जांच की और महसूस किया कि शकुन्तला देवी का जवाब सही था और हमारा मूल जवाब गलत था। यह समाचार दुनिया भर में फैल गया और शकुंतला ने ‘मानव कंप्यूटर’ का खिताब अर्जित किया।
  • वह एक सफल ज्योतिषी भी थीं और इस विषय पर उन्होंने कई किताबें लिखी थीं। इसके अलावा उन्होंने बच्चों और पहेली के लिए गणित पर ग्रंथ भी लिखे हैं। उनकी सबसे महत्वपूर्ण किताबों में से एक ‘The World of Homosexuals’ (1977) थी, जो भारत में समलैंगिकता पर आधारित पहला व्यापक अध्ययन रहा है। उन्हें इसका अहसास तब हुआ, क्योंकि उनके पति समलैंगिक थे, उन्होंने समलैंगिकता को और अधिक बारीकी से देखा था।
  • 18 जून 1980 को, उन्होंने 13 अंकों की संख्या -7,686,369,774,870 × 2,465,099,745,779 को गुना कर सर्वश्रेष्ठ उत्तर दिया। उन्होंने 28 सेकंड में सही जवाब 18,947,668,177,995,426,462,773,730 के रूप में सही उत्तर दिया। उनकी अविश्वसनीय उपलब्धि ने उनका नाम ‘गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स’ में दर्ज करवाया।
  • वर्ष 1969 में, उन्हें फिलीपींस विश्वविद्यालय द्वारा ‘Most Distinguished Woman of the Year’ के खिताब से सम्मानित किया गया।
  • वर्ष 1988 में, उन्हें वाशिंगटन डी. सी. में ‘रामानुजन गणितीय जीनियस’ के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 21 अप्रैल 2013 को, किडनी की गंभीर बीमारी से उनका निधन हो गया था।
  • 4 नवंबर 2013 को, उनके 84 वें जन्मदिन के लिए Google डूडल से सम्मानित किया गया था।

    शकुंतला देवी Google डूडल
    शकुंतला देवी Google डूडल

Related posts

Leave a Comment